100 WPM shorthand dictation Hindi, 105 WPM Hindi Dictation

महोदय, संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम आज चौराहे पर खड़ा है। वास्तव में आज पर्यावरण चौराहे पर खड़ा है। विश्व के सामन  यह स्थिति एकाएक नहीं आई है। यह स्थिति सदियों से इस पृथ्वी के निश्चित संसाधनों और क्षमताओं में कमी, आवश्यक और प्रायः अनावश्यक शोषण के फलस्वरूप आई है।

Please find the Transcription Below

महोदय, संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम आज चौराहे पर खड़ा है। वास्तव में आज पर्यावरण चौराहे पर खड़ा है। विश्व के सामन  यह स्थिति एकाएक नहीं आई है। यह स्थिति सदियों से इस पृथ्वी के निश्चित संसाधनों और क्षमताओं में कमी, आवश्यक और प्रायः अनावश्यक शोषण के फलस्वरूप आई है। इसका एक कारण है बढ़ती गरीबी – अब जीतने के लिए कोई नया महाद्वीप नहीं है क्योंकि गरीबी पर्यावरण का मतलब नहीं समझती। धनी लोगों द्वारा पृथ्वी के संसाधनों का बिना सोचे समझे दोहन इस खराब स्थिति के लिए दूसरा और बड़ा कारण है, क्योंकि धनी लोग भी पर्यावरण की परवाह नहीं करते। हमारी अन्तर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था न केवल अनुचित है बल्कि यह अस्थाई भी है।

यह कोई नई खोज नहीं है। अब से कई दशक पहले से विश्व इस तथ्य को लेकर परेशान है। संयुक्त राष्ट्र पर्यावर्ण कार्यक्रम का बनाया जाना इसका प्रमाण है। पिछले वर्ष रियो में संयुक्त पर्यावरण एवं विकास सम्मेलन में एक के बाद एक देश के द्वारा किया गया संकल्प और दृढ़ निश्चय इस तथ्य का दूसरा मजबूत प्रणाम है। हाँ, हमें यह जानकारी बहुत पहले से थी कि हमें स्वयं को अपने आपसे  बचाना चाहिए, ऐसी स्पष्ट इच्छा भी रही है, किंतु प्रभावकारी ढंग से कार्य करने की क्षमता का हममें अभाव रहा है। पिछले वर्ष रियो में हुई हमारी बैठक के बाद से हमने बहुमूल्य पृथ्वी के एक प्रतिशत से भी अधिक भाग को क्षति पहुंचा दी है जो शायद अपूरणीय है।

यदि इस पृथ्वी के बड़े भाग में रहने वाले करोड़ों गरीब लोगों की अपर्याप्त क्षमताओं की अनदेखी की गई तो पृथ्वी को पर्यावरण बुराइयों से बचाने के लिए किया जाने वाला कोई भी उपाय सफल नहीं होगा। कोई भी उपाय तब तक काम नहीं आएगा जब तक उसमें गरीबी दूर करने , सतत  विकास प्रदान करने तथा उन्हें अपनी सहायता अपने आप करने में सहायता करने की व्यवस्था नहीं की जाएगी।

हमें  संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण एवं विकास सम्मेलन के बाद पहली बार आयोजित संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की शासी परिषद् की बैठक के सम्मुख प्रमुख कार्यों पर अपना ध्यान केंद्रित करना होगा। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अपने 47वें  अधिवेशन मे एजेंडा-21 के कार्यान्वयन के लिए  विशिष्ट योजनाएं बनाने के लिए शासी परिषद् से अनुरोध  किया है।

पूरा मैटर शीघ्र ही उपलब्ध होगा.

कठिन शब्द
  • संयुक्त राष्ट्र
  • चौराहे
  • पर्यावरण
  • संसाधन
  • अनावश्यक
  • शोषण
  • महाद्वीप
  • अन्तर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था
  • अस्थायी
वाक्यांश
  • खड़ा है
  • संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम
  • विश्व के सामने
  • एक कारण है
  • न केवल
SSC STENOGRAPHERS' ZONE (Virat)

SSC STENOGRAPHERS' ZONE (Virat)

Author

www.gkworld.co.in

Subscribe to us via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 7 other subscribers

 

Comment Your Opinion Below 👇

Recent डिक्टेशन

Advertisement